Kiran Sahu on Brian Acton in Hindi

Kiran Sahu on Brian Acton in Hindi

Dealing with ads is depressing. You don’t make anyone’s life better by making advertisements work better.

विज्ञापनों से Deal करना कई बार डिप्रेशन को जन्म देने वाला होता है । आप कभी भी विज्ञापनों को बेहतर करके किसी के जीवन में कोई बड़ा बदलाव नहीं ला सकते ।

ब्रायन एक्टन, व्हाट्सऐप और सिग्नल ऐप के कर्ता-धर्ता हैं, उन्होंने इन एप्स को एकदम सिंपल और एड फ्री रखा है, हांलाकि अब WhatsApp पर फेसबुक का अधिकार है और आगे जाकर इसमें एड आएँगे या नहीं इसका कण्ट्रोल ब्रायन के पास नहीं है । जब हम कोई Content consume कर रहे होते हैं, चाहे वह ऑडियो, वीडियो या टेक्स्ट फॉर्मेट हो और अपना टाइम दे रहे होते हैं और बीच में जब कोई एड डिस्प्ले होता है तो हमारा अटेंशन अपने कॉन्टेंट से बँट जाता है, हमारा Mind Divert हो जाता है और कई बार हम अपने Content से Ads पर Switch कर जाते हैं । Ads को कुछ इस तरह से Design किया जाता है कि हम चाहकर भी अपने Mind को कण्ट्रोल नहीं कर पाते । और आजकल जितने भी Ads हम अपने Digital Platform पर देखते हैं वो हमें अपने Interest के According ही Ads Display कराती हैं ताकि हम ज्यादा से ज्यादा Ads देख सकें और उन Products को Purchase कर सकें जो हम देख रहे हैं । आजकल जितने भी Ads आप देखेंगे वो हमारे Mind को इमोशनली Attack कर रही हैं । जितने भी Ads Create किये जा रहे हैं वो बहुत हद तक हमारे Heart से Connect हो रही हैं, वो कहते हैं न दिल को छू लिया… इसी तरह से बड़ी-बड़ी कम्पनियां दिल छू लेने वाली भावनात्मक और लुभावने विज्ञापनों का सहारा लेकर अपने प्रोडक्ट्स बेच रही हैं । किसी भी चीज को एड फ्री बनाकर आप हमेशा उसकी Value को Increase करते हैं, हांलाकि आप उससे पैसे नहीं बनाते हैं लेकिन आप लोगों को उससे Connect कर लेते हैं । किसी Service को Ads Free करना आसान नहीं है लेकिन Long Time तक यदि आप लोगों को उससे जोड़ना चाहते हैं तो आपको अपने Platform को या तो Ads Free बनाना होगा या कम से कम एड के साथ उसे Public करना होगा । क्योंकि लोग अब अपने Mind को एक जगह पर टिकाने में सक्षम नहीं हैं और Ads उनके दिमाग को बहुत हद तक डिप्रेशन की तरफ भी ले जा सकता है और यह शत प्रतिशत सच है । ब्रायन एक्टन इस बात को बखूबी समझते हैं इसलिए उनका यह Quote सामने आया है ।

Must Read : Kiran Sahu on Bill Gates in Hindi.

When I joined ‘WhatsApp,’ I was 38 years old. Opportunity is available to us in all walks of life and at all ages.

जब मैंने ‘व्हाट्सएप’ ज्वाइन किया, तब मैं 38 साल का था। अवसर सभी क्षेत्रों में और किसी भी उम्र में उपलब्ध है।

बहुत से लोगों के मुंह से मैंने सुना है कि वो अपनी Life में कुछ अच्छा करना चाहते थे लेकिन उन्हें उस वक्त Time नहीं मिल पाया और जब मैंने उनसे कहा कि आप अभी भी तो कुछ अच्छा शुरू कर सकते हैं तब उनका जवाब कुछ इस तरह का होता है – अब तो उम्र निकल गई, अब कहाँ कुछ किया जा सकता है । मुझे लगता है कि ये कोरे बहाने हैं, जिसे कुछ करना होता है वो कभी भी “लेकिन” शब्द का इस्तेमाल नहीं करता ।   और अपनी उम्र को लेकर बहाने नहीं बनाता । आप किसी भी Age में शुरुआत कर सकते हैं, अवसर हमेशा आपका दरवाजा खटखटाती है लेकिन वो आप ही हैं जो बार-बार “लेकिन” शब्द के साथ अपनी बात को खत्म करते हैं और दरवाजा नहीं खोलते । आपको इन कोरे बहानों से बचने की बहुत ज्यादा जरूरत है । Age बस एक Number है  लेकिन आपके सपने किसी भी उम्र में पुरे हो सकते हैं और जिस दिन आप बहाने बनाने से बच गये उस दिन आप अपनी सफलता की कहानी लिख सकते हैं ।

आप पढ़ रहे हैं : Kiran Sahu on Brian Acton in Hindi

Must Read : लक्ष्य बनाइए, सफल बनिये | मॉर्निंग मोटिवेशन

Companies that have been built and operated for a long time are the most successful companies.

लंबे समय से बनाई और संचालित की जाने वाली कंपनियां सबसे सफल कंपनियां हैं।

कोई भी कम्पनी लम्बे समय तक Market में कब रहती है! इसके बहुत सारे जवाब हो सकते हैं । लेकिन किसी भी कम्पनी के वो एक ही चीज है जो सबसे ज्यादा मायने रखती है और वो है “लोग”

वो लोग आपके कम्पनी में काम में करने वाले हो सकते हैं, वो लोग आपके ग्राहक हो सकते हैं, वो लोग आपके आसपास वाले हो सकते हैं । कोई भी कम्पनी लोगों से चलती है । किसी भी बड़ी कम्पनी को आप देखेंगे उनमें काम करने वाले लोग होंगे जो उसे ऊँचाइयों तक लेकर जा रहे होंगे और वो ग्राहक होंगे जो उस कम्पनी की Services का Use कर रहे होंगे । आपको अपनी कम्पनी के लोगों का ख्याल रखना होगा, आपकी कम्पनी लोगों से चल रही है और यदि आप उनका ध्यान नहीं रखेंगे, उन्हें प्यार नहीं देंगे तो बहुत से लोग हैं जो आपकी कम्पनी छोड़कर जा सकते हैं, आपको अपने ग्राहकों का ध्यान रखना होगा, उन्हें बेहतर Services Provide करने के लिए तैयार रहना होगा । आप लोगों को खुश करते जाइए और लोग ख़ुशी-ख़ुशी आपकी कम्पनी को आगे बढ़ाते जाएँगे ।

Kiran Sahu on Brian Acton in Hindi के इन विचारों पर यदि आप हमसे जुड़ना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक कर हमसे संपर्क करें

Thanks 🙂

Kiran Sahu.