मरने से पहले कुछ करना है | किरण साहू

किरण साहू – मरने से पहले कुछ करना है 

स्टीव जॉब्स ने कहा था, मौत ही इस जिंदगी का सबसे बड़ा आविष्कार है, आजतक इससे कोई भी नहीं बचा, मौत ही है जो पुराने को बदलकर नए का रास्ता खोलती है और इस वक्त हम सब नए हैं पर कुछ ही दिनों में हम सभी भी पुराने हो जाएँगे और रास्ते से साफ़ हो जाएँगे ।

उनकी कही ये बातें शत प्रतिशत सच है, वो हमें डरा नहीं रहे हैं बल्कि उस सच्चाई से रूबरू करा रहे हैं किसे कोई भी झुठला नहीं सकता । मैं जब भी कोई अख़बार खोलता हूँ तो ज्यादातर कुछ ऐसी न्यूज़ पढ़ने को मिलती है जिसमें किसी के मरने की खबर छपी होती है । कुछ पल के लिए तो मैं सहम जाता हूँ क्योंकि अभी तक मैंने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे मेरी छवि स्ट्रोंग हो… मैंने अभी तक ऐसा कुछ भी नहीं किया है कि लोग मेरे मरने पर मुझे याद कर सकें । मन में हमेशा एक सपना लिए चल रहा हूँ कि मरने से पहले कुछ करना है ।  ये लाइफ हमें बड़ी मुश्किल से मिली है, अपना एक अलग पहचान बनाना, दुनिया के लिए कुछ छोड़कर जाना, दूसरों के लिए जीना, अपने आपको जानना, लाइफ को समझना… कितना कुछ है अभी करने को और ऐसे में मौत कब आ जाए किसी को पता नहीं चलता… लाइफ हमें बार-बार कुछ बड़ा करने के लिए मौके देती है, वो बार-बार इशारा करती है, हमें आगे बढ़ाने के लिए जिंदगी धक्का देती रहती है लेकिन हम अपने अन्दर की आवाज को दबा देते हैं, जो अन्दर से आवाज निकल रही होती है उसे हम सुनना भी नहीं चाहते, हम अपने सपनों का गला घोंट रहे होते हैं । याद रखिये इस दुनिया में किसी को भी नहीं मालूम कि वह रात को आँख बंद करने के बाद सुबह की सूरज देख पाएगा भी या नहीं । किसी को नहीं मालुम कि उसकी लाइफ का The  End कब हो जाए इसलिए हर दिन को एन्जॉय करो, खुलकर जियो, जो करना चाहते हो, जो बनना चाहते हो वो बनों । दूसरों के विचारों के शोर में खुद के विचारों को मत दबाओ ।

यहाँ क्लिक कर जरूर पढ़ें : Steve Jobs की कही यह 1 बात मैं कभी नहीं भूलता

समय की कीमत को समझो…

जब हम सुबह उठते हैं, तो सबसे पहले यही सोचते हैं कि आज का दिन बेहतर होगा, हमें एक नया अवसर मिला है और इसका हम खुलकर उपयोग करेंगे लेकिन जैसे ही आप अपनी दिनचर्या में लौटते हैं तो आपको महसूस होता है कि अभी तो आपके पास ऐसे बहुत से दिन बाकी हैं, आप जो करना चाहते हैं उसके लिए कल तो है ही… आप आज को बेहतर बनाने के बारे में भूल जाते हैं लेकिन सुबह उठते ही आपने खुद से कहा था कि आज का दिन आपके लिए बेहतर होगा । कोई भी चीज पहले से बेहतर नहीं होती, हमें हर चीज को बेहतर बनाना होता है । हम समय की कदर नहीं करते और सोचते हैं कि हमें इस दुनिया में बहुत लम्बे समय तक रहना है और समय ऐसे ही बीतते जाता है और मौत के शैय्या पर लेटे हम रो रहे होते हैं ।

मरने के बाद क्या होगा ?

मौत के सबसे बड़े रहस्य से आज तक परदा नहीं उठा, कोई नहीं जानता कि मौत के बाद क्या होता है लेकिन किसी के मरने के बाद दुनिया में क्या होता है ये सब जानते हैं । आपके साथ जितने भी लोग जुड़े हैं चाहे वो आपके परिवार वाले हों, दोस्त हों, रिश्तेदार हों वो सब गम में डूबे हुए रहते हैं, रो रहे होते हैं मरने वाले को याद कर रहे होते हैं लेकिन आपने कई जगह यह भी सुना होगा कि किसी के मरने के बाद कहीं पर जश्न का माहौल चल रहा होता, लोग मरने वाले से कह रहे होते हैं “अच्छा हुआ जो मर गया”

किसी की मौत के बाद दुनिया ऐसे ही चलती जाती है, दुनिया कभी रूकती नहीं लेकिन आपने इस दुनिया के लिए जो कुछ छोड़ा हुआ रहते है उससे लोग आपको याद करते हैं, आपकी कमी हमेशा महसूस करते हैं । क्या आपने अभी तक अपने परिवार के लिए कुछ बेहतर किया है, क्या आपने समाज के लिए कुछ किया है, क्या आपने अभी तक कुछ ऐसा किया है कि लोग मरने के बाद आपको आपके काम के लिये याद कर सकें ।

यहाँ क्लिक कर जरूर पढ़ें : सफलता की सबसे बड़ी बीमारी ?

अपने परिवार के साथ वक्त बिताइए, खुशियाँ बाँटिये, कुछ ऐसा कीजिए कि लोग आपको कभी न भूलें, अपने दायरों को बढ़ाइये, बड़ा सोचिये, कुछ ऐसा करिए जो आपने इससे पहले कभी नहीं किया क्योंकि मौत के बारे में कोई नहीं जानता कि ये कब आपके दरवाजे पर दस्तक दे दे इसलिए मरने से पहले कुछ तो कीजिए ।

 

किरण साहू के इस लेख पर अपने विचार भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें 

बहुत बहुत धन्यवाद 🙂

किरण साहू